गूगल सर्च कैसे काम करता है

हे दोस्तों आज की इस पोस्ट में हम आपसे गूगल सर्च कैसे काम करता है इसके बारे में बात करेंगे गूगल क्या है दोस्तों गूगल तो हम भी चलाते हैं गूगल में हम अलग अलग वेबसाइटें खोजते हैं आपको पता ही होगा गूगल एक ब्रांड है गूगल बाकी वेबसाइट का डाटा कैसे हो घुमा फिरा के खोज लेता है गूगल सर्च कैसे काम करता है तो आज हम इसी के इंटरेस्टिंग गूगल के बारे में बात करेंगे गूगल एक वेबसाइट है हमें कुछ खोजना है तो गूगल में जाकर सर्च करते हैं कोई भी टॉपिक जैसे कि शॉपिंग की वेबसाइट है कोई वेब होस्टिंग की वेबसाइट हो हम गूगल में जाकर खोजते हैं अब ध्यान रखिए कि गूगल में जितने भी वेबसाइट है तो गूगल के पास नहीं है मैं आज एक वेबसाइट बनाता हूं गूगल में आने के लिए उस वेबसाइट को आने के लिए 5 से 6 दिन लग जायेंगे जो गूगल है कोड रन करेगा उसका एल्गोरिदम रन करेगा गूगल ने जितनी भी वेबसाइट को क्रॉल करके रखा है इतनी वेबसाइट को गूगल दिखा सकता है गूगल भगवान नहीं है जो जितनी भी वेबसाइट बन रही है ना गूगल रियल टाइम में दिखा सके…… अब बात आती है गूगल के पास अलग-अलग वेबसाइट की लिस्ट है गूगल इन वेबसाइट की लिस्ट कैसे बनाता है कोई लिस्ट आएगी अपने आप गूगल के पास आ जाएगी गूगल ने अपने प्रोग्राम बनाए रखे हैं और गूगल ने अपने अलग अलग एल्गोरिथ्म बना के रखे हैं उनमें से एक है स्पाइडर अब बात आती है स्पाइडर क्या है और कैसे काम करता है

स्पाइडर क्या है?

गूगल यूज करता है स्पाइडर स्पाइडर mean जो मैंने एक वेबसाइट है गूगल को दिखाई तो जो स्पाइडर है जो कोडिंग है बोल सकते हो रोबोट जो कोडिंग है जो रोबोट है जो स्पाइडर है वह वेबसाइट के अंदर जाएगा जो वेबसाइट के अंदर की जितनी भी हाइपरलिंक है उसको ढूंढेगा और कितने हाइपरलिंक हैं जो दूसरे वेबसाइट से जुड़े है तो मान लो उसको दस लिंक ऐसे मिल गए जो एक प्रतिकूल वेबसाइट दूसरे वेबसाइट को पॉइंट कर रहा है तो वह 10 वेबसाइट के अंदर जाएगा और वह 10 वेबसाइट के अंदर दूसरे 10 वेबसाइट के अंदर घूम के वेबसाइटो का जाल बना देगा और इंटरनेट को स्कैन करता रहेगा जो जो वेबसाइटें मिलती जा रही है सारी वेबसाइटों का टाइटल डिस्क्रिप्शन और यूआरएल सारी चीजें अपने डेटाबेज में स्टोर करता रहेगा घुमा फिरा के बात है कि गूगल अपने रोबोट अपने स्पाइडर अलग अलग वेबसाइटों पर भेजता है और सारे इंटरनेट पर फैले हुए हैं

गूगल सर्च कैसे काम करता है

गूगल के स्पाइडर और नई नई वेबसाइट जो वेबसाइट पुरानी है वह अपडेट हुई है उसकी सारी डिटेल और इसकी सारी इंफॉर्मेशन गूगल स्पाइडर्स के द्वारा गूगल के डेटाबेस में स्टोर करता रहता है जो भी वेबसाइट है अपडेट हो रही है उसको यह स्पाइडर गूगल डेटाबेस मैं स्टोर करता रहता है और गूगल का डेटाबेस भरा गया तो उनको चाहिए मिलियन ऑफ सर्वर बहुत सारे सर्वर बनाए

जिनमें बहुत सारे वेबसाइटों की लिंक और वेब साइटों की डिटेल स्टोर करते रहते हैं अब बात करते हैं हम लोगों की जो क्लाइंट और हम लोग जो सर्च करते हैं गूगल के अंदर और मान लो हम सर्च करें bulk SMS Service तो जो बल्क एसएमएस सर्विस जिन वेबसाइट के टाइटल में होगा डिस्क्रिप्शन मेंं होगा किसी भी वेबसाइट मैंं होगा गूगल अपने सर्वर पर ढूंढेगा और कौन-कौन सी वेब साइटों मैं है जो यह पार्टिकुलर कीवर्ड है उस वेबसाइट मैं मैच हो रहे हैं एक हो रहे दो हो रहे हैं गूगल अपनी लिस्ट बनाएगा और इन लिस्ट को स्कैन करेगा 200 से 500 अलग-अलग question पूछेगा और उन वेबसाइटों के लिंक से एक question पूछेगा की इस वेबसाइट के टाइटल में आ रहा है यह की वर्ड और पूछेगा की यह कीवर्ड इन वेबसाइटों के डिस्क्रिप्शन मेंं आ रहा है

इनकी वर्ड का मीनिंग है की वेबसाइट के टाइटल डिस्क्रिप्शन और यूआरएल में मैच हो रहा है कि नहीं और इन वेबसाइटों के लिंक, बैंकलिंक वह जो अथॉरिटी वेबसाइट है और वेबसाइट की डोमिन अथॉरिटी क्या है, यूआरएल अथॉरिटी क्या है और वेबसाइट की ऐज क्या है बहुत सारी चीजें है

जिन्हें गूगल पूछेगा जितने भी वेबसाइट है उसको एक सीक्वेंस में लाएगा पहले क्या दिखाना है दूसरे क्या दिखाना है के बारे में गूगल टॉप 10 रिजल्ट को लेेकर आएगा और बहुत सी चीजें होती है जिसकी वजह से इन सब वेबसाइट की रैंकिंग अप डाउन होती रहती है ट्राफिक के हिसाब से, CTR की वजह से अब जानेंगे CTR क्या है CTR का फुल फॉर्म है Click Though Rate मान लो की आपने बल्क एसएमएस सर्विस इसकी वर्ड को गूगल में सर्च किया और बहुत सारी वेबसाइट आई और मैंने इन वेबसाइट को ओपन किया जो मैं इन वेबसाइट को बार-बार ओपन करूंगा तो गूगल को ऐसा लगेगा कि सब लोग स्क्रिप्ट करके उसी की वेबसाइट पर जाएं और गूगल एक चीज और भी बोलता है की इन रैंकिंग को दिखाने की पैसे नहीं लेता गूगल इन रैंकिंग को इंप्रूव करने के लिए, अपडेट करनेेे के लिए और आप अपनी वेबसाइट पर अपडेट कर रहे हो उसको जल्दी स्पाइडर भेजने के लिए और उसको पता चल जाए की आपने कुछ चीजें अपडेट की और गूगल पैसे नहीं लेता है

यह सब चीजें गूगल ट्रांसफॉर्मेशन के जरिए करता है लेकिन हांं गूगल अपनेे सर्च रिजल्ट के कीवर्ड पर एड्स दिखाता है और पैसे कमाता है इन पैसों से गूगल अपने पूरे सर्वर केेे मेंटेनेंस, पूरे स्पाइडर का, आपको फ्री में सर्च्च रिजल्ट दिखाने का इन सब से पैसा जो है गूगल एड्स् दिखा के निकालता है जो एड्स है वह पर्टिकुलर कीवर्ड के हिसाब से दिखाता है वह राइट साइड भी और लेफ्ट साइड भी दिखाता है और गूगल एड्स दिखा कर जो पैसे कमाता है वह हमको रिजल्ट फ्री में दिखाता है गूगल ने एल्गोरिदम बना के कोडिंग करके पूरे इंटरनेट पर कब्जा किया हुआ है

और उसके स्पाइडर और आप जब भी नई वेबसाइट खोले हैं तो उसके स्पाइडर आपकी वेबसाइट का डाटा गूगल को देतेे है यही स्पाइडर है जो गूगल को पूरी इंटरनेट पर जो भी वेबसाइट है उसका इंफॉर्मेशन गूगल को देता है और आप चाहे की इन स्पाइडर को लॉक करने के लिए गूगल ने एक मेथड्स दी है तो यह rebots.txt जैसी फाइल बनाते हो अपनी साइट पर तो यह स्पाइडर पहले आपकी इन robots.txt फाइल है इस पर यह स्पाइडर आएंगे और देखेंगे की आपने अलाउड किए हैं तभी यह स्पाइडर घुस आएंगे वरना नहीं जाएंगे और नहीं गया तो उस प्रतिकूल वेबसाइट मैं क्या है गूगल को नहीं पता चलेगा तो वह पर्टिकुलर वेबसाइट गूगल मैं नहीं मिलेगी और उसकी सारी चीजें नहीं मिलेगी तुम्हें ऐसा भी मत समझना गूगल वेबसाइट है ऐसे ही कोडिंग करके हम ऐसी ही सर्च इंजिन बनाना चाहे तो बना सकते हैं और आजकल गूगल एंडवास हो गया है गूगल चाहे रहा है कि वेबसाइटों को ट्राफिक ना दो और वह लोग जो चीजें सर्च कर रहे हैं उसी रिजल्ट में ही दिखाऊं जैसेे कोई सर्च करता है प्राइम मिनिस्टर नरेंद्र भाई मोदी, जैसे डॉलर का क्या भाव है

At last

मुझे उम्मीद है कि आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा तो अपने दोस्तों के साथ शेयर कीजिए लाइक कीजिए कमेंट कीजिए और सोशल मीडिया में फॉलो कीजिए और सब्सक्राइब करना मत बोलिए

जय हिंद जय भारत मेरा देश बदल रहा है आप भी बदलिए स्वच्छ भारत स्वच्छ अभियान

admin Administrator
Namaskar dosto Mera naam Pravin Kumar hai. Mai HSC (Higher Secondary Education Board) kiya hu. Or meri Age 21 Year hai. Mai India ke गुजरात के छोटे से शहर महेसाना से हूँ। Mai blogging ki start 2016 me ki thi or is ke baad me Job kar raha hu. Fir Maine blogging start kiya hua hai or online janakari Hindi me share karta hu. Me chahta hu ki logo ko online janakari Hindi me mile or Apna online business start kar sake jo log blogging or online janakari / internet janakari Lena chahte hai to unke liye achha hai. Oye apun ko step by step follow kar sakte Ho. Web Developer, Digital Marketing, Blogging Tips, Business Start planning Tech4guru – Hindi Me Help

Add a Comment

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!